मोहल्ला क्लीनिक में टैब से होगा काम, डिजिटल होगा मरीज का रिकॉर्ड - Latest news

Breaking

top ten news in hindi hindi mein news flash news in hindi aaj ka news hindi newsbihar

Breaking News

Sunday, June 21, 2020

मोहल्ला क्लीनिक में टैब से होगा काम, डिजिटल होगा मरीज का रिकॉर्ड

दिल्ली सरकार के आम आदमी मोहल्ला क्लीनिक में अब मरीज के रजिस्ट्रेशन से लेकर दवा देने तक का काम डिजिटल होगा। इसके लिए एक मोहल्ला क्लीनिक में डॉक्टर, क्लीनिक असिस्टेंट और फार्मासिस्ट को टैब खरीदने के लिए कहा गया है। जिसका पैसा उनको सरकार वापस कर देंगी।

इसका उद्देश्य मोहल्ला क्लीनिक में मरीजों के इलाज के रिकॉर्ड में पारदर्शिता लाना और मरीज की बीमारी की हिस्ट्री की ठीक से जानकारी रखना है। हालांकि मरीज को रिकॉर्ड के लिए प्रिंटर से उसकी बीमारी और दवा की पर्ची निकालकर भी दी जाएगी। एक अधिकारी ने बताया कि इस पर काम करने की तैयारी की जा रही है। इसे जल्द ही सभी 450 मोहल्ला क्लीनिक के काम में लाया जाएगा।

कैसे होगा काम
क्लीनिक असिस्टेंट सबसे पहले मरीज के आते ही उसका रिकॉर्ड लेकर यूनिक आईडी जनरेट कर देगा। यह जानकारी एम-क्लीनिक एप्लीकेशन से तीनों के जुड़े होने से सीधे डॉक्टर के पास पहुंच जाएंगी। डॉक्टर मरीज की बीमारी के लक्षण देखकर एप में ही संबंधित दवा लिख देंगा। इसके बाद फार्मासिस्ट अपने एप में देखकर मरीज को दवा दे देगा। साथ ही मरीज को रिकॉर्ड के दवा से संबंधित पर्चा भी दिया जाएगा।
15 हजार के टैब का पैसा होगा रिम्बर्स
आदेश के अनुसार डॉक्टर, क्लीनिक असिस्टेंट और फार्मासिस्ट को 15 हजार रुपए का टैब खरीदने को कहा गया है। इसके खरीदने के 10 से 15 दिन के अंदर पैसा सरकार की तरफ से रिम्बर्स कर दिया जाएगा।

तीन साल की वारंटी से स्टॉफ परेशान
मोहल्ला क्लीनिक के स्टॉफ को 15 हजार रुपए में कम से कम तीन साल की वारंटी का टैब खरीदने को कहा जा रहा है। ऐसे में स्टॉफ का कहना है कि अधिकतर टैब एक साल की वारंटी दे रहे है। तीन साल की वारंटी का टैब कैसे खरीदें। वहीं, उनका कहना है कि सरकार को खुद ही टैब खरीद कर स्टॉफ को देना चाहिए।

कोरोना मरीजों के लिए ऑक्सीजन सिलेंडर खरीद रही दिल्ली सरकार

दिल्ली सरकार ने अस्पतालों में आक्सीजन युक्त बेड बढ़ाने की कार्रवाई तेज कर दी है। इसी के तहत दिल्ली सरकार ने अस्पतालों को निर्देश दिए है कि वे कोविड-19 के मरीजों को अपने स्तर पर ऑक्सीजन सिलेंडर व सकेंद्रक (कन्संट्रेटर) ना खरीदें। क्योंकि इसकी सेंट्रल खरीदी सरकार कर रही है। इस संबंध में स्वास्थ्य विभाग की ओर से आदेश जारी किए गए है।

बता दें सरकार ने इस जून की शुरुआत में अपने अधीन वाले सभी कोविड अस्पतालों के चिकित्सा निदेशकों को अस्पतालों के सभी बेड के लिए ऑक्सीजन आपूर्ति की व्यवस्था करने को कहा था। आदेश के अनुसार स्वास्थ्य विभाग 18,000 डी-टाइप सिलेंडर, 3,000 बी-टाइप सिलेंडर और करीब 3,000 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर की खरीद की प्रक्रिया कर रहा है। वहीं, आदेश में आगे कहा गया, सिलेंडर व कंसंट्रेटर जल्द ही खरीद लिए जाएंगे।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2YZZYN2
via IFTTT

No comments:

Post a Comment