एफसीआई की फर्जी वेबसाइट बनाकर ठगी करने वाला टीजीटी टीचर व साथी गिरफ्तार - Latest news

Breaking

top ten news in hindi hindi mein news flash news in hindi aaj ka news hindi newsbihar

Breaking News

Saturday, June 20, 2020

एफसीआई की फर्जी वेबसाइट बनाकर ठगी करने वाला टीजीटी टीचर व साथी गिरफ्तार

फुड कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (एफसीआई) के नाम से दो फर्जी वेबसाइट बनाने वाले दो लोगों को साइबर सेल ने गिरफ्तार किया है। इन लोगों का इरादा वेबसाइट के माध्यम से बेरोजगार युवकों से ठगी करने का था, हालांकि वे अपने मकसद में कामयाब होते इससे पहले ही उन तक पुलिस पहुंच गई। आरोपियों की पहचान अंबाला निवासी परब शरण सिंह (27) और विजय कुमार (42) के तौर पर हुई।

इनमें विजय सोनीपत हरियाणा में टीजीटी टीचर है। जबकि दूसरा आरोप वेबसाइट डिजाइनर है। डीसीपी अन्येश रॉय ने बताया इस लोगों के लिए एफसीआई की ओर से पुलिस को शिकायत दी गई थी। बताया गया था कि किसी ने फर्जी वेबसाइट बना ली है।
शिकायत पर पुलिस ने केस दर्ज किया और सबसे पहले दोनों वेबसाइट को ब्लॉक कराया। इसके बाद टेक्नीकल हेल्प की मदद से पुलिस वेबसाइट डिजाइनर परब शरण सिंह तक पहुंच गई। उससे पूछताछ के बाद ठगी की स्क्रिप्ट लिखने वाले मास्टरमाइंड विजय कुमार को पकड़ लिया गया। आरोपी विजय कुमार ने पुलिस की पूछताछ में खुलासा किया कि उसने जल्द पैसा कमाने के मकसद से इन वेबसाइट का निर्माण करवाया था।
उसका इरादा वेबसाइट पर नौकरी का विज्ञापन देकर नौजवान बेरोजगारों को ठगना था। पुलिस का कहना है एफसीआई की फर्जी वेबसाइट मूल वेबसाइट से काफी मिलती जुलती थी। आरोपी विजय सोनीपत हरियाणा का रहने वाला है। वह अंग्रेजी विषय का टीजीटी टीचर है। आरोपी परब शरण ने बीकॉम की पढाई बीच में ही छोड़ दी थी।

परब विजय का ह जानकार है। अभी तक की जांच में पुलिस को इन वेबसाइट के चलते हुई ठगी की कोई शिकायत नहीं मिली है। पुलिस ने लोगों से एक बार फिर अपील की है कि वे किसी संस्था की वेबसाइट के बारे में पहले यह सुनिश्चित कर लें कि वह सही है या नहीं। उसके बाद की कोई निजी जानकारी साझा करें या वितीय लेनदेन करें।

प्रशांत विहार में घर के अंदर महिला की हत्या, पुलिस को किसी जानकार का हाथ होने का शक
रोहिणी सेक्टर 9 राजपुर गांव में एक महिला की उसी के घर में हत्या कर दी गई। महिला का शव पलंग पर पड़ा मिला जहां एक तकिया के पास ₹3000 रुपए मिले। वारदात के समय उनका बेटा पार्क में खेलने के लिए गया था, वह लौटा तो इस वारदात का खुलासा हुआ। शुक्रवार शाम वारदात की सूचना मिलने पर पुलिस ने शव पोस्टमार्टम के लिए अस्पताल भिजवाया। प्रशांत विहार थाना पुलिस हत्या का केस दर्ज कर मामले की जांच कर रही है। पुलिस को शक है हत्या के पीछे किसी जानकार का हाथ हो सकता है।

पुलिस मामले में 3 लोगों को हिरासत में लेकर उनसे पूछताछ कर रही है। का शक है मृत महिला की पहचान 45 वर्षीय सोनिया के तौर पर हुई। पुलिस ने बताया सोनिया राजपुर गांव में किराए के घर में रहती थी। उसने घनी आबादी वाले इलाके में एक कमरा किराए पर ले रखा था। महिला का पति करनाल की फैक्ट्री में नौकरी करता है जो 15 दिन के भीतर एक दो बार परिवार से मिलने आ जाता है। महिला का बेटा दीपक 16 साल एक सरकारी स्कूल में दसवीं कक्षा का छात्र है। शुक्रवार शाम 5:00 बजे वह घर के नजदीक पार्क में खेलने के लिए गया।

6:45 बजे के आसपास जब वह लौटा तो उसे अपनी मां को मृत हालत में पलंग पर पड़े देखा। उसके चारों तरफ खून बिखरा हुआ था। पुलिस को शाम 7:00 बजे हत्या की सूचना मिली, मौके पर पहुंची पुलिस ने बॉडी को पोस्टमार्टम के लिए मोर्चरी भिजवाया। महिला के पति को वारदात की खबर कर दी गई है।

घर में सारा सामान सुरक्षित मिला है, फ्रेंडली एंट्री के संकेत मिले हैं। महिला और उसके बेटे का मोबाइल गायब है। शुरुआती जांच में पुलिस ने महिला के साथ किसी तरह की जोर जबरदस्ती की बात से इनकार किया है। हालांकि असलियत पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद ही सामने आ सकती है। पुलिस महिला के संपर्क में रहने वाले लोगों के बारे में भी जानकारी जुटा रही है।

दो दिन से लापता शख्स का शव नाले में मिला,जांच शुरू

पूर्वी दिल्ली में खजूरी खास इलाके से 2 दिन से लापता एक व्यक्ति की लाश नाले से मिली। शनिवार को इस मामले की सूचना मिलने के बाद पुलिस ने बॉडी को अस्पताल की मॉर्चरी में भिजवाया। मरने वाले का नाम मोहम्मद हारून है। आशंका जतायी जा रही है कि नाले में डूबने के कारण इस आदमी की मौत हुई होगी। मामले में पुलिस की जांच पोस्टमार्टम रिपोर्ट पर टिकी है। पुलिस ने बताया बुखार की शिकायत होने पर हारून को चौदह दिन के लिए घर में ही क्वारेंटाइन किया गया था।

सीबीआई का डर दिखाकर ऐंठ लेते थे ज्वैलरी और कैश

साउथ डिस्ट्रिक पुलिस ने जालसाजी करने वाले एक गैंग का पर्दाफाश करते हुए तीन को गिरफ्तार किए गए हैं जो खुद को सीबीआई से बता कर लोगों को घर में रेड डालने का डर दिखा ठगी और लूटपाट कर फरार हो जाते थे। आरोपियों की पहचान लुधियाना निवासी लखविंदर, समालखा निवासी सोनू कुमार और सनी के तौर पर हुई। यह गैंग सम्मोहन विद्या में भी एक्सपर्ट है। इनके पास से तीन लग्जरी गाड़ियां, 30 हजार रुपए, सीबीआई के एसआई का फर्जी आईकार्ड और सोने की ज्वैलरी जब्त की है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3103VE3
via IFTTT

No comments:

Post a Comment