तीन माह की ईएमआई नहीं चुकाने की राहत, लेकिन बैंकों की तरफ से कस्टमर को भेजे जा रहे एसएमएस - Latest news

Breaking

top ten news in hindi hindi mein news flash news in hindi aaj ka news hindi newsbihar

Breaking News

Monday, May 25, 2020

तीन माह की ईएमआई नहीं चुकाने की राहत, लेकिन बैंकों की तरफ से कस्टमर को भेजे जा रहे एसएमएस

लॉकडाउन में रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (आरबीआई) ने एक बार फिर लोगों को तीन माह की ईएमआई नहीं चुकाने की राहत दी है मगर इसके साथ ही उन्हें बैंकों की तरफ से एसएमएस भी प्राप्त हो रहे हैं कि अपने खाते में पर्याप्त बैलेंस रखें। लोगों का कहना है कि बैंक में पता करने पर अधिकारी समय पर ईएमआई नहीं चुकाने पर ब्याज की बात करते है। इससे वह काफी परेशान हैं। आरबीआई ने लॉकडाउन में लोगों की परेशानी को देखते हुए टर्म लोन की ईएमआई वसूली तीन महीने के लिए टाल दी है।
अब बैंकों से कर्ज ले रखे लोग, क्रेडिट कार्ड धारकों और म्यूचुअल फंड निवेशकों के पास संबंधित बैंकों एवं वित्तीय संस्थानों से निर्धारित तिथि को अपने खातों में पर्याप्त राशि रखने के लिए एसएमएस आ रहे हैं, जिससे किस्त जा सके। इस प्रकार के संदेश व्यक्तिगत, वाहन और मकान कर्ज ले रखे लोगों के पास भी आ रहे हैं। स्टेट बैंक के एक अधिकारी ने बताया कि इस सुविधा का लाभ लेने के लिए व्यक्ति को अपने बैंक से संपर्क करना होगा।

बैंक में फार्म भर कर यह जानकारी देनी होगी कि वह ईएमआई भरने के लिए ए समर्थ है या नहीं। उन्होंने कहा आरबीआई की ओर से ईएमआई के रूप में दी गई थी केवल मानसिक रूप से राहत है। तीन माह तक ईएमआई नहीं चुकाने पर लोगों को ब्याज सहित पैसा चुकाना होगा। इस संबंध में जिला अग्रणी बैंक केनरा के मुख्य प्रबंधक आलभ्य मिश्रा ने कहा कि जो लोग अभी ईएमआई चुकाने में असमर्थ हैं। उन लोगों को इस योजना का काफी लाभ होगा।
लोगों से बातचीत

  • आरबीआई ने जो छूट दी है वह भ्रमित कर रही है क्योंकि बैंक अधिकारी कह रहे हैं कि तीन माह ईएमआई नहीं भर सकते तो आपको ब्याज सहित पैसा भरना होगा। इसलिए सरकार की इस छूट से लोगों को कोई फायदा नहीं मिलने वाला है। ब्याज सहित माफ करने से राहत जरूर मिल सकती थी।- मीनाक्षी शर्मा, सेक्टर-49
  • आरबीआई ने ईएमआई में जो छूट दी है। इससे केवल उन लोगों को लाभ मिल सकता है जिनका अभी कंपनियों से वेतन नहीं मिला है मगर तीन माह बाद उन्हें ईएमआई का पैसा ब्याज सहित चुकाना पड़ेगा। इसलिए मैं अपनी ईएमआई हर माह बैंक से कटवा देती हूं।- ईशा सरदाना, ग्रेटर फरीदाबाद


Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2X073gQ
via IFTTT

No comments:

Post a Comment