सीबीएसई बची परीक्षा कराने में जुटा, कोरोना संक्रमण से चिंतित अभिभावक चाहते हैं बच्चों को किया जाए प्रमोट - Latest news

Breaking

top ten news in hindi hindi mein news flash news in hindi aaj ka news hindi newsbihar

Breaking News

Sunday, May 17, 2020

सीबीएसई बची परीक्षा कराने में जुटा, कोरोना संक्रमण से चिंतित अभिभावक चाहते हैं बच्चों को किया जाए प्रमोट

मानव संसाधन मंत्रालय ने 10वीं (सिर्फ नॉर्थ-ईस्ट दिल्ली) और 12वीं की डेट शीट घोषित करने की बात कही है। लेकिन कोरोना के बढ़ते केस के चलते इसे करवा पाना आसान नहीं है। मंत्रालय और सीबीएसई से स्थिति स्पष्ट न होने से अभिभावकों और छात्रों की चिंता बढ़ी हुई है। उनका कहना है कि पेपर देते वक्त संक्रमण का खतरा रहेगा। इसलिए क्यों न बच्चों को अगली कक्षा के लिए प्रमोट कर दिया जाए।फिक्की की असिस्टेंट सेक्रेटरी जनरल शोभा मिश्रा घोष ने बताया कि एग्जाम सेंटर पर परीक्षा करवाने में संक्रमण का डर है। अभिभावक बच्चों को स्कूल नहीं भेजना चाहते हैं। स्कूल में काेई भी गतिविधियां तभी शुरू हों, जब संक्रमण का ग्राफ नीचे आए और स्कूल में डिस्टेंसिंग का पालन हो।

मंत्रालय और बाेर्ड मान रहा कि संक्रमण कुछ कम हो जाएगा

मानव संसाधन मंत्रालय और सीबीएसई की तैयारी कुछ अलग है। मंत्रालय और बाेर्ड के अधिकारियों का मानना है कि जब जुलाई में 10वीं और 12वीं की परीक्षा हाेंगी, तब तक संक्रमण कुछ कम हो जाएगा। वहीं कुछ अधिकारियोें ने बताया कि शेष परीक्षा को लेकर छात्र और अभिभावक तनाव में थे। वे अनुरोध करते थे कि परीक्षा की डेट बता दीजिए। हालांकि अब डेट शीट के लिए अनुरोध आने लगे। यह भी अहम है कि कोरोना में चीजें तेजी से बदल रही हैं। इसलिए जून के अंतिम हफ्ते में फिर रिव्यू किया जा सकता है कि परीक्षा करवाई जाए या नहीं।

आलम यह है कि अभिभावक संक्रमण की वजह से बच्चों की सुरक्षा को लेकर सबसे अधिक चिंतित हैं। अधिकारियों ने कहा कि कई लोगों के सुझाव ये भी आए कि 10वीं-12वीं के बच्चों को प्रमोट कर दिया जाए। वहीं 12वीं के कई बच्चों के सुझाव आए कि परीक्षाएं हों ताकि उन्हें अच्छे विवि में एडमिशन के लिए अच्छे अंक का एडवांटेज मिल सके। इस बारे में दैनिक भास्कर ने मानव संसाधन मंत्रालय में स्कूल एजुकेशन विभाग की सेक्रेटरी अनीता करवाल से संपर्क किया लेकिन उन्होंने आधिकारिक तौर पर बात करने से मना कर दिया।

विभिन्न बोर्ड की मिली-जुली रही प्रतिक्रिया

ऑल इंडिया पेरेंट्स एसोसिएशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष अशोक अग्रवाल ने कहा कि अधिकांश अभिभावक बच्चों को स्कूल नहीं भेजना चाहते हैं। वहीं, दिल्ली पेरेंट्स एसोसिएशन की अध्यक्ष अपराजिता गौतम अनऐडड रिग्नाइज्ड प्राइवेट स्कूल्स की जनरल सेक्रेटरी और दिल्ली में माउंट आबू पब्लिक स्कूल में बोर्ड मेंबर भरत अरोड़ा ने कहा कि यहां से बच्चों का भविष्य तय होता है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2AxDsTa
via IFTTT

No comments:

Post a Comment