हॉट स्पॉट जोन में बिना सुरक्षा उपकरण बुजुर्गों का सर्वे करने का दबाव - Latest news

Breaking

top ten news in hindi hindi mein news flash news in hindi aaj ka news hindi newsbihar

Breaking News

Saturday, May 23, 2020

हॉट स्पॉट जोन में बिना सुरक्षा उपकरण बुजुर्गों का सर्वे करने का दबाव

(आनंद पवार)सेंट्रल दिल्ली के हॉट स्पॉट जोन में शामिल इलाकों में बिना सुरक्षा उपकरण के नगर निगम के डोमेस्टिक ब्रीडिंग चैकर (डीबीजी) कर्मचारियों से घर-घर सर्वे कराने का मामला सामने आया है। सेंट्रल जिला प्रशासन की तरफ से कराए जा रहे सर्वे में कर्मचारियों को सिर्फ ट्रिपल लेयर सर्जिकल मास्क के अलावा सोशल डिस्पेंसिंग का पालन कर जानकारी एकत्रित करने के लिए कहा जा रहा है।
सर्वे में कर्मचारियों को 60 साल से अधिक उम्र के बुजुर्ग का नाम, पता, दूसरी कोई बीमारी की डिटेजल, मधुमेह/ब्लड प्रेशर/अस्थमा से संबंधित जानकारी जुटाना है। खास बात तो यह है कि इसमें किसी के संक्रमित होने के लक्षण की भी जानकारी मिलने पर तुरंत वरिष्ठ अधिकारियों को देना है। ताकि संबंधित को अस्पताल में भर्ती कराया जा सके।

ऐसे में कर्मचारियों का कहना है कि उनको मास्क के अलावा ना तो सेनिटाइजर दिया जा रहा है और ना ही गल्वस। जबकि हॉट स्पॉट जोन में अब तक 1200 से ज्यादा लोग संक्रमित पाए गए है। जिनमें से अभी भी कई संक्रमित होम आइसोलेशन में है।

इसलिए है खतरा

सेंट्रल दिल्ली के उत्तरी दिल्ली नगर निगम के सिटी एस पी जोन में बड़ी संख्या में कंटोनमेंट जोन बने है। यहां पर बड़ी संख्या में कोरोना संक्रमण के मामले सामने आए है। ऐसे में यहां पर बिना सुरक्षा उपकरण गल्वस, सेनिटाइजर, एवं हेड कवर एवं शील्ड के घर घर जाकर सर्वे करने से कोरोना संक्रमित होने का खतरा है।

यह है सर्वे का उद्देश्य

दिल्ली सरकार 60 साल से अधिक के बुजुर्गाें का रिकॉर्ड एकत्रित कर रही है। इसमें उनकी दूसरी बीमारी की भी डिटेल ली जा रही है। सरकार बुजुर्गों का रिकॉर्ड एकत्रित कर लक्षण वाले बुजुर्ग को तुरंत इलाज उपलब्ध कराने और मॉनीटरिंग करने की योजना पर काम कर रही है। दरअसल कोरोना संक्रमण में सबसे ज्यादा खतरा बुजुर्गों और पहले से दूसरी बीमारी से पीड़ितों को ही ज्यादा है।

शिकायत पर नहीं हो रही कार्रवाई

डीबीसी कर्मचारी यूनियन के पदाधिकारी ओमप्रकाश ने इस मामले में जिला प्रशासन के अधिकारियों को लिखित शिकायत की, लेकिन उनको कोई रिसिविंग नहीं दी गई। ना ही कोई कार्रवाई की गई। वहीं, एंटी मलेरिया कर्मचारी संघ अध्यक्ष विनोद शर्मा ने कहा कि सरकार कर्मचारियों की सुरक्षा में कोताही बरत रही है। बिना सुरक्षा कवच के कोरोना संक्रमित इलाके में घर-घर सर्वे करने का दबाव बनाया जा रहा है। शर्मा ने कहा कि स्वभाविक है कि घर-घर जाकर दरवाजे खटखटाने होगे, बेल बजानी होगी। ना तो सेनिटाइजर उपलब्ध कराया जा रहा ना ही गल्वस।

^हम उनको पूरी किट उपलब्ध कराएंगे। वह सर्वे करने के लिए सामने आएं। सोमवार को उनको बुलाकर उनको पूरी किट देंगे। - निधि श्रीवास्तव, जिला अधिकारी, सेंट्रल दिल्ली



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2zhixUp
via IFTTT

No comments:

Post a Comment