सीमाएं सील, दिल्ली में काम करने वाले मेडिकल स्टाफ ने शाह से मांगी मदद - Latest news

Breaking

top ten news in hindi hindi mein news flash news in hindi aaj ka news hindi newsbihar

Breaking News

Wednesday, April 29, 2020

सीमाएं सील, दिल्ली में काम करने वाले मेडिकल स्टाफ ने शाह से मांगी मदद

दिल्ली के साथ हरियाणा और यूपी के जिन जिलों की सीमाएं लगती हैं, एक-एक कर वे दिल्ली बॉर्डर को सील कर रहे हैं। मंगलवार को फरीदाबाद बॉर्डर और सोनीपत से जुड़े दिल्ली बॉर्डर पर सख्ती कर दी गई थी बुधवार को सोनीपत, गुड़गांव और फरीदाबाद जिला प्रशासन ने कुछ छूट के साथ लोगों के आवागमन पर पूरी तरह रोक लगा दी। फरीदाबाद के जिलाधीश यशपाल यादव की ओर से जारी आदेश में कहा गया कि बुधवार दोपहर 12 से कुछ लोगों को छूट के साथ अन्य सभी तरह के लोगों की एंट्री बैन रहेगी।

विभिन्न सरकारी विभागों के प्रमुखों और लोकल प्रशासन द्वारा जारी किए गए पास भी सस्पेंड कर दिए गए। अब तीन मई तक किसी भी तरह की छूट मिलने वाली नहीं है। गाजियाबाद और नोएडा पहले ही अपने बॉर्डर सील कर चुके हैं।

खास बात यह कि बॉर्डर सील कर देने से वे डॉक्टर भी प्रभावित हुए हैं जो आवयश्यक सेवा के तहत ड्यूटी करने दिल्ली आते हैं। एनसीआर से दिल्ली के अस्पतालों में काम करने के लिए आने वाले डॉक्टर और मेडिकल स्टाफ को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। सबसे ज्यादा दिक्कत हरियाणा के बॉर्डरों पर है।

सफदरजंग अस्पताल में बहुत से डॉक्टर और मेडिकल स्टाफ इन इलाकों से आता हैं। बॉर्डर पर इनसे कहा जा रहा है कि दिल्ली में ही रहने का इंतजाम करिए। सफदरजंग अस्पताल की रेजीडेंट डॉक्टर्स एसोसिएशन ने मेडिकल सुप्रीटेंडेंट को चिट्‌ठी लिखकर समस्या का समाधान करने की मांग की है। आरडीए के उपाध्यक्ष डॉ. आशू मीणा ने कहा कि हमने अस्पताल के मेडिकल सुप्रीटेंडेंड से कहा है कि बड़ी तादाद में डॉक्टर और अन्य मेडिकल स्टाफ एनसीआर के इलाकों से अस्पताल में नौकरी करने के लिए आता है। इस समस्या का समाधान कराया जाए।

फोर्डा ने डॉ. हर्षवर्धन और सीएम केजरीवाल को भी लिखा पत्र
फेडरेशन ऑफ रेजीडेंट डॉक्टर्स एसोसिएशन (फोर्डा) ने गृह मंत्री अमित शाह को चिट्‌ठी लिखकर मेडिकल स्टाफ को आने-जाने की छूट देने की अपील की है। फोर्डा के अध्यक्ष शिवाजी देव बर्मन ने कहा कि ऐसे वक्त में जब कोरोना संकट बना हुआ है। कोरोना के अलावा दूसरी बीमारियों का इलाज करने वाले डॉक्टरों की बहुत जरूरत है। आने-जाने की परेशानी से अस्पतालों में बहुत दिक्कत होगी। फोर्डा ने यह चिट्‌ठी केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को भी भेजी है।

साउथ एमसीडी: कर्मचारियों के रहने-खाने का करेगा भुगतान
साउथ एमसीडी यूपी-हरियाणा इन राज्यों से डयूटी पर आने वालों प्रतिदिन के हिसाब से भुगतान करेगी। इस संबंध में एमसीडी की ओर से आदेश जारी किया गया है। ए और बी कैटेगिरी के कर्मचारियों को दो हजार और सी एवं डी कैटेगिरी के कर्मचारियों को 1100 रुपए प्रतिदिन के हिसाब से भुगतान होगा। यह भुगतान उन्हीं कर्मचारियों को किया जाएगा जिन्होंने अपना पता यूपी या फिर हरियाणा दे रखा है। सुविधा लेने के लिए कर्मचारियों को अपने डिप्टी कमिश्नर से अप्रूवल लेनी होगी।

क्या बोले पीड़ित

जब मैं अस्पताल से डयूटी करने के बाद वापस अपने घर फरीदाबाद जा रहा था तो मुझे बदरपुर बॉर्डर पर रोका गया और वहां मौजूद पुलिसकर्मी ने दोबारा नहीं जाने देने की बात कही। मुझसे कहा गया कि दिल्ली में काम करते तो वहीं रहने का इंतजाम करो। इसके बाद मैंने अपने एचओडी को बताया। अस्पताल की ओर से कोई इंतजाम नहीं हुआ। मुझे यहां अस्पताल के हॉस्टल में अपने एक साथी के साथ रहना पड़ रहा है। इसका समाधान जरूर निकलना चाहिए।
-डॉ. लेखराज, रेडियोलॉजी, सफदरजंग

मैं रोज फरीदाबाद से नौकरी करने के लिए अस्पताल आता हूं। सुबह जब मैं अस्पताल आ रहा था तो मुझे कहा गया कि चले जाओ लेकिन वापस मत आना। आई कार्ड और अस्पताल की ओर से जारी पास दिखाने पर भी कोई सुनने को तैयार नहीं है। अस्पताल पहुंचने में देर होगी तो पहले से तय ऑपरेशन में परेशानी होगी। सरकार समस्या को कुछ न कुछ निकाले ताकि हमें परेशानी न हो। -डॉ संदीप तोमर, एनेस्थिसिया, सफदरजंग



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
फरीदाबाद-दिल्ली सीमा पर जांच करती पुलिस।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3cXFfik
via IFTTT

No comments:

Post a Comment