बायोकॉन की प्रमुख ने कहा- महामारी दुनिया काे वर्चुअल रियलिटी में रीबूट करेगी, एक साल बाद जीने और काम करने के तरीके बदल जाएंगे - Latest news

Breaking

top ten news in hindi hindi mein news flash news in hindi aaj ka news hindi newsbihar

Breaking News

Saturday, April 18, 2020

बायोकॉन की प्रमुख ने कहा- महामारी दुनिया काे वर्चुअल रियलिटी में रीबूट करेगी, एक साल बाद जीने और काम करने के तरीके बदल जाएंगे

कोरोना संक्रमण की वजह से दुनिया बड़े बदलाव के मुहाने पर खड़ी है। बायोकॉन कंपनी की एग्जीक्यूटिव चेयरपर्सन किरण मजूमदार-शॉ ने इस बदलाव पर कई बातें कही हैं। उनका कहना है कि विश्व का बिजनेस माॅडल 360 डिग्री बदलने वाला है। कई ऐसे वर्क कल्चर खत्म हाे जाएंगे, जाे बिजनेस का अहम हिस्सा रहे थे। काेविड-19 दुनिया काे वर्चुअल रियलिटी में रीबूट करेगा। अपने ब्लाॅग में उन्हाेंने भविष्य की दुनिया का खाका खींचा है। पढ़िए प्रमुख अंश:

नए विश्व में वर्चुअल रियलिटी नई व्यवस्था होगी

किरण मजूमदार-शॉ ने ने कहा किकाेविड-19 संकट के बाद वर्क फ्रॉम होम मॉडल जारी रह सकता है। वर्चुअल मीटिंग फिजिकल मीटिंग जितनी ही कारगर साबित हुई है। ऐसे में बिजनेस ट्रैवल में कटौती का रुख जारी रहने की संभावना है। नए विश्व में वर्चुअल रियलिटी नई व्यवस्था होगी। कोरोना महामारी से उपजे झटकों का दुनिया पर सशक्त प्रभाव होगा। चालू वित्त वर्ष की शुरुआत में विश्व अर्थव्यवस्था 90 लाख करोड़ डॉलर (6,840 लाख करोड़ रुपए) की थी। अगले वित्त वर्ष की शुरुआत तक यह मंदी की गिरफ्त में चली जाएगी। इसके असर से 5 ट्रिलियन डॉलर (380 लाख करोड़ रुपए) का नुकसान हाेगा। काेविड-19 ऐसा रीबूट बटन है, जिससे पूरी व्यवस्था में आमूलचूल बदलाव की शुरुआत हाेगी।

मानवता काे बचाने के लिएअनुशासनात्मक कदम उठाने हाेंगे

बायोकॉन की चेयरपर्सन शॉ ने ने कहा कि अब से एक साल बाद हमारे जीवन जीने, काम करने और टेक्नोलॉजी इस्तेमाल करने के तौर-तरीके पूरी तरह बदल जाएंगे। मानवता काे बचाए रखने के लिए हमें कई अनुशासनात्मक कदम उठाने हाेंगे। काेराेनावायरस ने हमारे हेल्थ केयर सिस्टम की कई कमियां उजागर कर दीं। खासकर विकसित देशाें की, जहां दूसरे विश्व युद्ध के बाद से इसमें काेई बड़ा बदलाव नहीं हुआ। सरकार काे स्वास्थ्य सेवाओं, महत्वपूर्ण चीजाें की आपूर्ति की नीति बनानी हाेगी। मेडिकल उपकरणाें, उपचार, दवा व वैक्सीन की आकस्मिक याेजना बनानी हाेंगी। काेविड-19 मानवता काे सबसे बड़ा सबक यह है कि इस समय में हम सब एकजुट हैं। जाे चीज एक व्यक्ति काे प्रभावित कर सकती है, उससे हर व्यक्ति, हर जगह प्रभावित हाे सकता है। जाति, धर्म, आर्थिक रुतबे, राष्ट्रीयता की चिंता करने के बजाय हमें हाेमाे सैपियंस की तरह एक हाेकर साेचने और करने की जरूरत है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
किरण मजूमदार शॉ ने अपने ब्लॉग में कहा- सरकार काे स्वास्थ्य सेवाओं, महत्वपूर्ण चीजाें की आपूर्ति की नीति बनानी हाेगी।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3crCt4E
via IFTTT

No comments:

Post a Comment