ढाई हजार के पार पहुंचा कोरोना पॉजिटिव का आंकड़ा, एक महीने में 7797% की बढ़ोतरी - Latest news

Breaking

top ten news in hindi hindi mein news flash news in hindi aaj ka news hindi newsbihar

Breaking News

Friday, April 24, 2020

ढाई हजार के पार पहुंचा कोरोना पॉजिटिव का आंकड़ा, एक महीने में 7797% की बढ़ोतरी

राजधानी दिल्ली में कोरोना मरीजों का आंकड़ा बढ़कर ढाई हजार के पार पहुंच गया है। मरीजों में बढ़ोतरी एक महीने में 7797 फीसदी हुई है। 24 मार्च और 24 अप्रैल के बीच 2484 नए कोरोना मरीजों की पुष्टि हुई। शुक्रवार तक कोरोना पॉजिटिव मरीजों का आंकड़ा बढ़कर 2514 हो गया है। अब तक 53 की मौत हुई है। कुल 857 मरीज ठीक होकर घर भी गए हैं। 24 घंटे में 49 नए मरीज घर पहुंचे। कोरोना के संबंध में शुक्रवार को जारी हुई रिपोर्ट के मुताबिक कोरोना पॉजिटिव मरीजों का आंकड़ा 2514 हो गया है। 24 घंटे में 138 नए मरीजों की पहचान हुई है। कोरोना के एक्टिव केस 1604 हैं।

यानी इनका अलग-अलग जगह इलाज चल रहा है। कोरोना के कुल 2514 मरीजों में से 1646 की उम्र 50 साल से कम है। 459 की उम्र 60 और उससे ज्यादा है, जबकि 409 की उम्र 50-59 साल के बीच है। रिपोर्ट के मुताबिक कोरोना से मरने वाले 53 में से 45 पहले से बीमार थे। सरकार ने कोरोना की मृत्यु दर 2.11 फीसदी बताई है। इसमें से 6.32 फीसदी 60 और उससे ज्यादा उम्र के हैं। 3.42 फीसदी 50-59 साल के हैं। 0.61 फीसदी 50 और उससे कम उम्र के हैं।

दिल्ली में शुक्रवार तक 33,672 सैंपल की जांच हुई है। इसमें से 26,552 की रिपोर्ट निगेटिव है। 4128 की रिपोर्ट अभी आनी बाकी है। सिर्फ 2514 की जांच रिपोर्ट ही पॉजिटिव है। दिल्ली के अस्पतालों में कुल 481 कोरोना मरीज भर्ती हैं। इनमें से आईसीयू में 29 और वेंटिलेटर पर 9 मरीज हैं। सबसे ज्यादा लोकनायक में 139 मरीज भर्ती हैं। कोरोना केयर सेंटर में 880 भर्ती हैं। इनमें सबसे ज्यादा नरेला में 415 हैं। यहीं मरकज के लोगों को भी रखा गया है।

साउथ एमसीडी में दो सफाई कर्मचारी कोरोना पॉजिटिव

नॉर्थ और ईस्ट के बाद साउथ एमसीडी में दो सफाई कर्मचारी कोरोना पॉजिटिव मिले हैं। एक भोगल इलाके में कार्यरत था, जोकि एम्स में भर्ती है। इस कर्मचारी के बारे में साउथ एमसीडी की ओर से बताया कि वह 22 अप्रैल से एम्स में भर्ती है और लिवर की बीमारी से पीड़ित है। उसने इस महीने सिर्फ दो दिन काम किया है। कर्मचारी को कोरोना से संबंधित डयूटी में नहीं लगाया गया। महिला सफाई कर्मचारी जिसे कोरोना हुआ है वह वेस्ट जोन में कार्यरत थी, उसे लोकनायक अस्पताल में भर्ती किया गया है। उसके साथ काम करने वाले 9 सफाई कर्मचारियों को होम क्वारेंटाइन किया गया है।

पति की भी जांच की गई लेकिन उसका टेस्ट निगेटिव आया। अब उसका टेस्ट दोबारा किया जाएगा। इधर, नॉर्थ एमसीडी के डेम्स विभाग में कार्यरत असिस्टेंट सेनेटरी इंस्पेक्टर के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद उसके संपर्क में आए 39 कर्मचारियों को होम क्वारेंटाइन कर दिया गया है। इसमें ज्यादातर सफाई कर्मचारी हैं। इससे पहले ईस्ट एमसीडी में दो कर्मचारी कोरोना पॉजिटिव पाए जा चुके हैं, जिनमें से एक की मौत हो गई थी।

‘कोरोना के 3 स्टेज-प्लाज्मा थैरेपी से दूसरे स्टेज में बचा सकते हैं जान’

आईएलबीएस के निदेशक डॉ. शिव कुमार सरीन ने बताया कि यह प्लाज्मा पुरानी थैरेपी है और डिप्थिरिया में भी इस्तेमाल की गई। चूंकि वायरस की कोई दवाई नहीं है और हमारे पास ऐसी कोई दवाई नहीं हैं कि वायरस शरीर में प्रवेश करे तो उसे आगे बढ़ने से रोक सकें। एक ही थैरेपी थी कि वायरस को कैसे निष्प्रभाव करें या उसके प्रभाव को कैसे कम करें। उन्होंने कहा कि कोरोना के तीन स्टेज होते है। पहला, वायरस फेज कहते हैं। इसमें वायरस शरीर के अंदर आता है।

दूसरा, इसे पल्मोनरी फेज कहते हैं। जिसमें फेफड़े के अंदर जख्म आने लगते हैं। उसके कारण मरीज को सांस की परेशानी होने लगती है। तीसरा, इसमें साइकोकाइन निकलते हैं। अगर मरीज तीसरे स्टेज में आता है, तो उसके अंगों को फेल होने की स्थिति आ जाती है। डॉ. सरीन ने कहा कि यदि दूसरे स्टेज में आता है तो उसका फेफड़ा संक्रमित होता है और बाकी आर्गन काम कर रहे होते हैं। ऐसे में प्लाज्मा थैरेपी देकर उसे बचाया जा सकता है। क्योंकि पहली स्टेज में बीमारी पकड़ में नहीं आती।

डॉ. सरीन ने बताया जिन चार मरीजों पर प्लाज्मा थैरेपी का इस्तेमाल किया गया है। उसमें से दो मरीज एक दो दिन में घर जाने की स्थिति में हो सकते हैं। वह बेड से उठ कर बैठ कर नाश्ता कर रहे हैं। जो व्यक्ति वेंटिलेटर पर जाने की स्थिति में हो सकता था, वह अब ठीक है। उसे इस सप्ताह छुट्टी मिलने की उम्मीद है। बाकी दो लोगों को जिनमें प्लाज्मा चढ़ा है, अभी उनमें कोई प्रतिक्रिया नहीं है। प्लाज्मा में रिएक्शन हो सकता है। किसी में ब्लड चढ़ाएं, तो उसमें ब्लड से रिएक्शन हो सकता है। लेकिन उससे ज्यादा रिएक्शन नहीं होता है। उस पर भी हम नजर रखते हैं। अभी तक सभी चारों मरीज बहुत अच्छे हैं। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि ऐसे लोगों के पास दिल्ली सरकार की तरफ से फोन जाएगा। जो लोग ब्लड या प्लाज्मा देने के इच्छुक होंगे।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Corona positive figure exceeded 2.5 thousand, 7797% increase in a month


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3bCzTbZ
via IFTTT

No comments:

Post a Comment